Rhinoplasty surgery in pune

क्या है नाक की सर्जरी (राइनोप्लास्टी )? मार्गदर्शन और जानकारी

नाक की सर्जरी एक करेक्टीव सर्जरी (Nose Surgery) है । जिसमें नाक का आकार या आकृती मे बदल किये जाते है । यह नाक के आकार को बदलने के लिए की जाने वाली एक सर्जरी (surgery) है। राइनोप्लास्टी

(Rhinoplasty) एक सामान्य प्रकार की प्लास्टिक सर्जरी है और कई हस्तियां अपनी सुंदरता को बढ़ाने के लिए राइनोप्लास्टी करवाती हैं|  सामान्यतः  जब नाक मे सांस लेने कठिनाई हो रही है, या अपघात मे नाक क्षतिग्रस्त हो गई है तो राइनोप्लास्टी की सलाह डॉक्टर देते है।

कॅन्सर (Cancer) या संक्रमण आदि के कारण हुई विकृती को ठीक करने के लिए भी यहा सर्जरी के जाती है।आपके होंठ के अनुसार नाक की रूप-रेखा को सुधारने के लिए सर्जरी की जाती है।नाक के किसी चपटे भाग को ठीक करने के लिए भी सर्जरी की जाती है।

यदि आपको कोई जन्मदोष है, जिसमें नाक की आकृति सामान्य नहीं है, तो भी यह सर्जरी की जा सकती है।यदि नाक का आकार अधिक बड़ा या छोटा है, तो उसे सामान्य बनाने के लिए यह सर्जरी की जाती है। यह रिकंस्ट्रक्टिव सर्जरी (Reconstructive Surgery) और कॉस्मेटिक सर्जरी दोनों के रूप में काम करती है।

नाक के सर्जरी (राइनोप्लास्टी (Rhinoplasty Surgery)) के बाद सावधानियां :

पेशंट को आराम करने की सलाह की जाती है। जोर लगा ने वाली गतिविधियों से दूर रहे। नहाते समय शावर का इस्तेमाल नही करना चाहिए। नाक मे खुजली ना करे। सर्जरी के बाद डॉक्टर के संपर्क मे रहे।

नाक के सर्जरी (राइनोप्लास्टी) के  फायदे:

जैसे नाक के आकार मे सकारात्मक बदलाव आता है। नाक से जुडे कई रोग नष्ट हो जाते है। खर्राटे (Snoring) की समस्या दूर हो जाती है। सर्जरी के जरिये जन्मजात विकार भी  ठीक किए जा सकते है।

नाक की सर्जरी को नाक से जूडी अनेक समस्या  और सौंदर्य बढाने के लिए किया जा सकता है ।इसके लिये आप अच्छे डॉक्टर की सलाह लेनी चाहिये ।और अपने सेहत के अनुसार सर्जरी को करवा चाहिए।

राइनोप्लास्टी का खर्चा काफी चीजों पर निर्भर करता है। जैसे सर्जिकल प्रक्रिया, जांच का खर्चा,उसकी गंभीरता, सर्जरी के बाद की स्थिती ,दवाइयों का खर्चा इत्यादी।

इनामदार मल्टीस्पेशलिटी अस्पताल मे राइनोप्लास्टी एक्स्पर्ट डॉक्टर्स करते है.

पुणे में इनामदार मल्टीस्पेशलिटी अस्पताल (Inamdar Multispeciality Hospital) एक अत्याधुनिक अस्पताल है जो कम लागत पर सर्वोत्तम स्वास्थ्य सेवा प्रदान करता है। यहां डॉक्टरों की टीम अपनी सामाजिक प्रतिबद्धता और समर्पण के लिए जानी जाती है। अस्पताल की पूरी टीम मरीजों की देखभाल करने और उनके परिवारों का समर्थन करने के लिए प्रतिबद्ध है। रोगी की देखभाल एक परिवार की तरह की जाती है ताकि समय पर दवा उपचार से रोगी जल्द से जल्द ठीक हो सके। पुणे के केंद्र में स्थित और अत्याधुनिक बुनियादी ढांचे के साथ, इनामदार मल्टीस्पेशलिटी अस्पताल (Inamdar Multispeciality Hospital) सभी बीमारियों के लिए उत्कृष्ट स्वास्थ्य सेवा प्रदान करता है।

kidney stone treatment in pune

Kidney Stones- Symptoms, Causes, Types and Treatment

Kidney stones consist of hard deposits made up of salts and minerals that occur inside the kidneys. Some medical conditions, diet, medications, and supplements are the contributing factors to kidney stones. They can affect the urinary tract from the kidneys to the urinary bladder. Stones form due to the concentration of urine that makes the minerals crystallize and stick to each other.

Symptoms of kidney stones:

A cramping and sharp pain in the side and the back is a symptom of kidney stones. This feeling extends to the groin and lower abdomen. The pain goes and comes in the form of waves. It is because the body tries to eliminate kidney stones.

Some other symptoms of kidney stones are as follows.

  1. Need to urinate
  2. Vomiting and nausea
  3. Having a burning feeling while urinating
  4. Urine is red or dark in color due to the presence of blood that causes the urine to have some amounts of red blood cells
  5. Men can feel pain at the top of their penis

Kidney stones- Causes:

If a person drinks a low amount of water, exercises very little or too much, eats food that contains a great amount of sugar and salt, and suffers from obesity, they can have kidney stones. Eating fructose can pose a risk to the formation of kidney stones. It is present in corn syrup and table sugar.

Types of kidney stones:

1. Uric acid

It is the type of kidney stone that occurs from shellfish and organ meat that have high concentrations of the natural chemical compound called purines. This can result in the formation of kidney stones.

2. Cystine

These types of kidney stones are rare. They usually run in families.

3. Struvite

Struvite stones occur due to infections that affect the upper urinary tract.

4. Calcium oxalate

This stone is a result of the combination of calcium and oxalate in urine. Inadequate intake of fluid and calcium can result in this condition.

Treatment:

The treatment for kidney stones consists of medication and surgery. Inamdar Multispeciality Hospital provides the best kidney stone treatment with the best practices of experts.

Conclusion:

If you require treatment for kidney stones, you can contact Inamdar Hospital in Pune. The Urology Department at IMH has a very properly skilled group of Urologists in Pune available at Inamdar Multispeciality Hospital Fatima Nagar Pune. Several doctor team is available for Urology treatment.

 

Orthopedic and Replacement Surgery Hospital in Pune

जॉइंट रिप्लेसमेंट (Joint Replacement) नंतर कशी घ्यावी काळजी?

जॉइंट रिप्लेसमेंट (Joint Replacement) ,ज्याला आर्थ्रोप्लास्टी (Orthoplasty) देखील म्हणतात. जेव्हा उपचारांनी तीव्र सांधेदुखी कमी होत नाही तेव्हा सांधे बदलणे हाच एक उपाय केला जातो.

या शस्त्रक्रियेमध्ये खराब झालेले सांधे बदलून कृत्रिम सांधे बसवले जातात. हे सांधे धातू, सिरॅमिक किंवा प्लास्टिकचे बनलेले असतात. शल्यविशारद (Surgeons) आपल्या शरीरातील कोणत्याही भागाचा सांधा बदलु शकतात. पण सर्वात जास्त हिप, गुडघा आणि खांदा रिप्लेसमेंटच्या केसेस मोठ्या प्रमाणात आढळून येतात. सांधे  (Joint replacement ) नंतर रुग्णाला बरे होण्यासाठी 6 ते 8 आठवडे लागतात. यादरम्यान खूप काळजी घ्यावी लागते. जास्त हालचाल किंवा कोणत्याही प्रकारचे काम करण्याचा प्रयत्न करू नये, कारण यामुळे इतर समस्या उद्भवू शकतात.

सांधे प्रत्यारोपणा (Joint Replacement) नंतर आपली काळजी कशी घ्यावी ते आपण जाणून घेऊया –

१. वेळेवर डॉक्टरांना भेटणे आणि औषधे घेणे.

२. जर शस्त्रक्रियेनंतर औषधे बदलली असतील तर औषधांच्या प्रिस्क्रिप्शनची (Prescription) नोंद ठेवणे.

३.आधारा शिवाय चालण्याचा प्रयत्न करू नये. चालण्यासाठी काठी किंवा वॉकर वापरणं आवश्यक आहे.

४. शस्त्रक्रिया झाली त्याठिकाणी जर सूज किंवा रक्तस्त्राव होत असेल किंवा पाय पिवळे-निळे दिसत असतील तसेच ताप, वेदना, जळजळ असेल तर ताबडतोब डॉक्टरांशी संपर्क साधणे.

५. शस्त्रक्रिया केली गेली आहे, त्या ठिकाणी साबण आणि पाण्याने हळुवारपणे धुवावे आणि स्वच्छ कापडाने हलक्या हाताने कोरडे करावे. शस्त्रक्रिया केलेल्या भागाभोवती लोशन किंवा पावडर लावू शकतो जेणेकरून टाक्यांवर जखम होणार नाही.

६. टाके असलेल्या भागात दोन आठवडे पाणी लागू देऊ नये.

७. टाके बरे होण्यासाठी 7 ते 10 दिवस लागू शकतात आणि जर 2 आठवड्यांनंतर टाके निघाले नाहीत, तर ते डॉक्टरांच्या सल्ल्यानुसार हळुवारपणे काढतात.

८. शस्त्रक्रियेनंतर स्नायु बळकट व्हावे यासाठी लोहयुक्त आणि संतुलित आहार घेणे आवश्यक आहे. द्रवपदार्थ भरपुर प्रमाणात घ्यावे.

९. एकाच जागी अर्ध्या तासापेक्षा जास्त वेळ बसू नका. थोडा वेळ चाला.

१०. Joint replacement नंतर स्नायू पूर्ववत बरे झाल्यानंतरही काही महिन्यांपर्यंत खेळणे देखील टाळले पाहिजे तसेच सायकल चालवणे, पोहणे, इतर व्यायाम देखील टाळावे.

११. डॉक्टरांनी दिलेले व्यायाम नियमित करावे. जर हे व्यायाम नियमितपणे केले नाहीत तर सांध्यांच्या हालचालीत अडचण येऊ शकते.

Joint Replacement नंतर कोणत्याही प्रकारची अडचण आली तर डॉक्टरांचा सल्ला घ्यावा. उगाचच घरगुती उपाय करून वेळ वाया घालवू नये.  नाहीतर खूप मोठ्या अडचणींना सामोरे जावे लागेल आणि रिप्लेसमेंट केलेला भागही निकामी होऊ शकतो.

पुण्यातले इनामदार मल्टीस्पेशालिटी हॉस्पिटल (Inamdar Multispeciality Hospital) हे एक अत्याधुनिक सेवा देणारे व कमी खर्चात सर्वोत्कृष्ट आरोग्यसेवा प्रदान करणारे  हॉस्पिटल आहे. येथे असणारी डॉक्टरांची टीम ही सामाजिक बांधिलकी जपणारी आणि पूर्णपणे समर्पण देऊन काम करणारी म्हणून ओळखली जाते. रुग्णाची काळजी घेणे व त्यांच्या कुटुंबाला आधार देणे यासाठी हॉस्पिटलची सर्व टीम वचनबध्द आहे. वेळेत औषध उपचार करून रुग्णाला लवकरात लवकर आराम पडावा यासाठी रुग्णाची कुटुंबासारखी काळजी घेतली जाते. पुण्याच्या केंद्रस्थानी असलेले आणि अत्याधुनिक पायाभूत सुविधा असलेले  इनामदार मल्टीस्पेशालिटी हॉस्पिटल (Inamdar Multispeciality Hospital)  सर्व आजारांवर उत्कृष्ट आरोग्यसेवा प्रदान करते

IVF Treatment Hospital in Pune

IVF क्या है और कैसे किया जाता है? (Understanding the Steps of IVF)

IVF आईवीएफ अर्थात इन विट्रो फर्टिलाइजेशन In vitro fertilization (IVF) , यह गर्भधारण (Pregnancy) की एक कृत्रिम (artificially) प्रक्रिया है।पहले इसे टेस्ट ट्यूब बेबी (Test Tube Baby) के नाम से जाना जाता था।  जो महिला किसी कारण वश मां नाही बन पाती उनके लिये किसी वरदान से कम नहीं हैं|

आजकल के व्यस्त जीवन और जीवनशैली के कारण महिलायें एवं पुरुष दोनों ही इनफर्टिलिटी (Infertility) का शिकार हो रहे हैं और परिणामस्वरूप निःसन्तानता व जीवन की सबसे बड़ी समस्या बन रही है। लेकीन IVF की सहायता से बहुत से दम्पति आसानी से माता-पिता बन पा रहें है।

अब जानते हे यह प्रोसेस कैसे करते हैं (Understanding the Steps of IVF) –

इस ट्रीटमेंट में महिला के अंडों और पुरूष के शुक्राणुओं (Sperms) को मिलाया जाता है। जब इसके संयोजन से भ्रूण बन जाता है, तब उसे वापस महिला के गर्भ में रख दिया जाता है।

यह प्रक्रिया कई चरणों में पूरी होती है, जिनमें ओवेरियन स्टिमुलेशन (Ovarian Stimulation) , महिला की ओवरी से एग (Egg) निकालना, पुरूष से स्पर्म (Sperm) लेना, फर्टिलाइजेशन (Fertilisation) और महिला के गर्भ में भ्रूण को रखना शामिल है। IVF के एक साइकल में 2-3 सप्ताह लग सकते हैं।

1) एग स्टिमुलेशन (Egg Stimulation):

इसमे महिला की ओवरी में बनने वाले एक अंडे की जगह कई अंडे विकसित किए जाते हैं। इसके लिए हॉर्मोन्स के इंजेक्शन दिए जाते हैं| अल्ट्रासाउंड के जरिए देखा जाता है कि अंडे ठीक से तैयार हो रहे हैं या नहीं, कितने अंडे तैयार हो रहे हैं आदि। इस पूरी प्रक्रिया को एग स्टिमुलेशन कहते हैं।

जब सारे अंडे एक ही साइज के हो जाते हैं, तो महिला को बेहोश करके अंडे निकाल लिए जाते हैं।

2) स्पर्म लेना (Sperm Collection)-

टेस्टीक्यूलर एस्पिरेशन (Testicular Sperm Aspiration ) की मदद से भी शुक्राणु या स्पर्म लिए जा सकते हैं| स्पर्म देने के बाद डॉक्टर लैब में स्पर्म को स्पर्म फ्लूइड से अलग करते हैं।

3) फर्टिलाइजेशन (Fertilisation)-

अब पुरूष के स्पर्म (sperms) को महिला के अंडों के साथ मिलाया जाता है और रातों-रात फर्टिलाइज किया जाता है।

4)​ भ्रूण को गर्भ में रखना (Embryo transfer) –

3 से 5 दिन बाद 5 दिन के भ्रूण को महिला के गर्भ में रख दिया जाता है।भूण रखने के बाद आप नॉर्मल लाइफ जी सकती हैं। हालांकि अब ओवरी का आकार पहले से बढ़ा हो जाता है, ऐसे में किसी भी असामान्य गतिविधि ना करने की डॉक्टर सलाह देते हैं|

इनामदार मल्टीस्पेशलिटी अस्पताल (Inamdar Multispeciality Hospital) मे आईवीएफ (IVF) प्रक्रिया एक्स्पर्ट डॉक्टर और टीम करते है|  कई स्त्री पुरूष इसका लाभ लेकर माता पिता बन गये  हैं|

पुणे में इनामदार मल्टीस्पेशलिटी अस्पताल (Inamdar Multispeciality Hospital) एक अत्याधुनिक अस्पताल है जो कम लागत पर सर्वोत्तम स्वास्थ्य सेवा प्रदान करता है। यहां डॉक्टरों की टीम अपनी सामाजिक प्रतिबद्धता और समर्पण के लिए जानी जाती है। अस्पताल की पूरी टीम मरीजों की देखभाल करने और उनके परिवारों का समर्थन करने के लिए प्रतिबद्ध है। रोगी की देखभाल एक परिवार की तरह की जाती है ताकि समय पर दवा उपचार से रोगी जल्द से जल्द ठीक हो सके। पुणे के केंद्र में स्थित और अत्याधुनिक बुनियादी ढांचे के साथ, इनामदार मल्टीस्पेशलिटी अस्पताल (Inamdar Multispeciality Hospital) सभी बीमारियों के लिए उत्कृष्ट स्वास्थ्य सेवा प्रदान करता है।

Gastroscopy treatment and cost in pune

Gastroscopy Treatment and Cost in Pune

Gastroscopy is the treatment where the esophagus or the food pipe gets examined with the duodenum and the stomach. This procedure helps to find out the cause of blood in the feces, anemia, vomiting blood, and abnormal pain in the abdomen. These problems usually happen due to infection in the digestive system and other problems.

What is the cost and treatment of gastroscopy?

In Pune, gastroscopy costs somewhere around Rs. 800/- to Rs. 14000/-. For the treatment, the doctor will give a local anesthetic spray to numb the throat of the patient. In young children, general anesthetic procedures are done. The endoscopist will put the endoscope inside the throat and move it down the throat further. In addition, resting for a few hours may also enable you to get rid of or wear off the effect of the sedative.

How can you get ready for a gastroscopy?

You have to be on an empty stomach so that the doctor can see properly and prevent vomiting. In addition, you will have to avoid drinking or eating anything six hours before the procedure. For medical conditions and allergies, you have to consult your doctor regarding taking regular medicines.

What will happen after gastroscopy?

If you require gastroscopy, you will be given light sedation. It normally takes fifteen to thirty minutes. You may get the feeling of drowsiness, and you may experience some bloating because of the air that is produced at the time of the procedure.

You can drink and eat, but you must avoid traveling alone or driving after the examination. Moreover, you need to avoid drinking alcohol for twenty-four hours. Your doctor will then inform you about the results of your gastroscopy.

Conclusion:

In case you need to get a gastroscopy done, you can contact our doctors at Inamdar Hospital located in Pune.

1 2 3 5