Pediatric heart surgery

 हृदय शल्य चिकित्सा हृदय पर किए जाने वाले ऑपरेशनों का मार्गदर्शन करती है जिसके लिए रोगी को हृदय-फेफड़ों की बाईपास मशीन पर रखने की आवश्यकता होती है। हृदय-फेफड़े की बाईपास मशीन शरीर को ऑक्सीजन युक्त रक्त की आपूर्ति करने के लिए हृदय और फेफड़ों का कार्य करती है।

बाल हृदय सर्जन नवजात शिशुओं, बच्चों और किशोरों के साथ-साथ वयस्कों में जटिल आनुवंशिक हृदय दोषों का इलाज करते हैं। जब आपके बच्चे की ओपन-हार्ट सर्जरी हुई थी तो स्तन की हड्डी या छाती के किनारे पर एक सर्जिकल कट लगाया गया था। सर्जरी के दौरान, बच्चे को हार्ट-लंग बाईपास मशीन पर भी रखा गया होगा। इसलिए, सर्जरी के बाद आपके बच्चे को संभवतः बाल गहन चिकित्सा इकाई (PICU) में ले जाया जाएगा। वहां आपके बच्चे की विशेषज्ञ नर्सों और डॉक्टरों द्वारा बारीकी से निगरानी की जाती है।

लेकिन बाल चिकित्सा हृदय सर्जरी के बाद ठीक होने में कितना समय लगता है और प्रक्रिया के बाद माता-पिता को क्या कदम उठाने चाहिए। इसके बारे में हम इस Article में जाणकारी प्रदान कर रहे हैं तो कृपया इस Article को अंत तक जरूर पढे़।

हार्ट सर्जरी से बच्चे को ठीक होने में कितना समय लगता है?

हार्ट सर्जरी के बाद बच्चों को आमतौर पर बाल गहन देखभाल इकाई मतलब PICU में स्थानांतरित कर दिया जाता है, जहां केवल करीबी परिवार के सदस्यों को ही जाने की अनुमति होती है। कुछ दिनों तक बच्चे को PICU में निगरानी में रखा जाता है। की गई सर्जरी और सर्जरी के बाद बच्चे की स्थिति के आधार पर रोगी को घर भेजा जाता है।

 डिस्चार्ज के बाद आमतौर पर मरीज को ठीक होने के लिए घर पर कम से कम 3 या 4 सप्ताह का समय और लगता है। सर्जरी के बाद दर्द होना सामान्य है इसलिए माता-पिता को सलाह दी जाती है कि वे घबराएं नहीं। दूसरे दिन के बाद दर्द कम होने की संभावना होती है लेकिन कभी-कभी इसे एसिटामिनोफेन से नियंत्रित किया जाता है।

इसके अलावा इस चरण में रोगी को कई ट्यूबों और तारों से जोड़ा जाएगा जो बच्चों के लिए सामान्य पुनर्प्राप्ति प्रक्रिया का हिस्सा होता है। पुनर्प्राप्ति प्रक्रिया पूरी होने के बाद इन्हें बाद में हटा दिया जाता है। मरीज के स्थिर होने के बाद उन्हें कार्डियक इनपेशेंट वॉर में स्थानांतरित कर दिया जाता है।

आपके बच्चे की हालत बहुत नाजुक होगी। उनकी पुनर्प्राप्ति प्रक्रिया के दौरान सावधानी बरतना बहुत महत्वपूर्ण है। 

सर्जरी के बाद याद रखने योग्य कुछ बातें यहां दी गई हैं

बच्चो की सर्जरी होणे के तुरंत बाद कुछ बातों का ध्यान देना महत्वपूर्ण है जो हम आपको नीचे बताये गये है।

  • सुनिश्चित करें कि रोगी या बच्चा कोई भी भारी वस्तु न उठाए या कोई कठिन शारीरिक कार्य न करे। खींचने या धक्का देने से सख्ती से बचना चाहिए।
  • रोगी को साइकिल या स्केटबोर्ड की सवारी, रोलर स्केटिंग, तैराकी और सभी संपर्क खेलों से तब तक बचना चाहिए जब तक डॉक्टर यह न कहे कि यह ठीक है।
  • सुनिश्चित करें कि आपका बच्चा पर्याप्त पोषक तत्व ले रहा है। उचित भोजन और पोषक तत्व लेने से तेजी से ठीक होने में मदद मिलेगी।
  • सर्जरी के बाद कोई भी टीकाकरण लेने से पहले डॉक्टर से संपर्क करें। सभी निर्धारित दवाएँ सावधानीपूर्वक दें।

सर्जरी के बाद के लक्षण

           सर्जरी के बाद बच्चो में कुछ लक्षण हो सकते हैं। लेकिन घबराएं नहीं आप डॉक्टर की सलाह अवश्य लिजीये।

  • हलका सा बुखार आ सकता है
  • सर्जरी की जगह सुजन आ सकती है
  • सांस लेने में कठिनाई हो सकती है
  • त्वचा का रंग लाल हो सकता है
  • भूख लगना कम हो सकती है
  • दिल की धड़कन भी तेज हो सकती है
  • सीने में दर्द भी हो सकता है

आहार क्या लेना चाहिए? 

सर्जरी के बाद बच्चे को ठीक होने और बढ़ने के लिए पर्याप्त कैलोरी मिलनी चाहिए। उन्हें नियमित और स्वस्थ आहार उपलब्ध कराया जाना चाहिए। डॉक्टर एक चार्ट देंगे कि क्या खाना चाहिए और क्या नहीं। उचित पोषण की आवश्यकता है क्योंकि यह भी एक प्रकार की उपचार प्रक्रिया है।

बच्चो के हृदय की सर्जरी के बाद ज्यादातर शिशु जितना चाहें उतना फार्मूला या स्तन का दूध ले सकते हैं। कुछ डॉक्टर बहुत अधिक फार्मूला या स्तन का दूध पीने से बचने की सलाह देते हैं। भोजन का समय लगभग 30 मिनट तक सीमित करने का प्रयास करें।

Meet Our Best Pediatric Surgeon in Pune At Inamdar Hospital.

Leave a Reply

Your email address will not be published.

You may use these <abbr title="HyperText Markup Language">HTML</abbr> tags and attributes: <a href="" title=""> <abbr title=""> <acronym title=""> <b> <blockquote cite=""> <cite> <code> <del datetime=""> <em> <i> <q cite=""> <s> <strike> <strong>

*