महिलाओं में सामान्य स्त्रीरोग संबंधी समस्याएं क्या है ?

लगभग सभी महिलाओं को अपने जीवन में कभी न कभी स्त्री रोग संबंधी समस्याओं का सामना करना पड़ता है। इस दर्द को सामान्य मानकर इसपर ध्यान नही दिया जाता क्योंकि यह मासिक धर्म के दौरान हो सकता है। यह दर्द आमतौर पर उदर क्षेत्र को प्रभावित करता है, इसे गैस्ट्रोइंटेस्टाइनल , मूत्र (कैल्कुली, इंटरस्टीशियल सिस्टिटिस), साइकोजेनिक (पिछला शारीरिक या मानसिक विकार) के रूप में गलत निदान किया जा सकता है। लेकीन ध्यान रहे की स्त्रीरोग संबंधी समस्याएं महिला प्रजनन प्रणाली को प्रभावीत करती है, जिसमें स्तन और गर्भाशय, अंडाशय, फैलोपियन ट्यूब, योनि और योनी, साथ ही अन्य पेट और श्रोणि अंग शामिल हैं।

महिलाओं में सामान्य स्त्रीरोग संबंधी समस्याएं(Common Gynecological Problems in Women in Hindi)

  1. डिसमेनोरिया :- मासिक धर्म (Menstrual)के दौरान पीठ के निचले हिस्से या पेट में दर्द होना बहुत आम है। डिसमेनोरिया तब विकसित हो सकता है जब मजबूत संकुचन से गर्भाशय को ऑक्सीजन की आपूर्ति बाधित हो जाती है। जब गर्भाशय में गंभीर संकुचन होता है, तो ऑक्सीजन की आपूर्ति कम हो सकती है, जिसके परिणामस्वरूप डिसमेनोरिया होता है। यह आमतौर पर उम्र के साथ सुधरता है, खासकर बच्चे के जन्म के बाद यह बिमारी होती है।
  2. ओवेरियन सिस्ट(ovarian cyst):- यह जानना आश्चर्यजनक नहीं है कि महिलाओं में उनके प्रजनन वर्षों के दौरान ओवेरियन सिस्ट बहुत आम हैं। अधिकांश महिलाएं अपने जीवनकाल में कम से कम एक ओवेरियन सिस्ट विकसित करती हैं। अंडाशय महिला प्रजनन प्रणाली के सबसे महत्वपूर्ण अंग हैं। वे मादा श्रोणि गुहा में छोटी ग्रंथियों की एक जोड़ी हैं। प्रत्येक अंडाशय बादाम के आकार का और गर्भाशय के प्रत्येक तरफ आकार का होता है।कभी-कभी, ओवेरियन सिस्ट महिलाओं द्वारा जीवन भर किसी का ध्यान नहीं जाता है। ये सिस्ट ट्यूमर हो भी सकते हैं और नहीं भी।
  3. एंडोमेट्रियोसिस :- एंडोमेट्रियोसिस एक ऐसी स्थिति है जिसमें एंडोमेट्रियल ऊतक गर्भाशय के बाहर बढ़ता है, आमतौर पर अंडाशय, फैलोपियन ट्यूब या श्रोणि के अंदर अन्य प्रजनन अंगों पर। चूंकि एंडोमेट्रियल ऊतक विस्थापित हो जाता है, इसके पास शरीर से बाहर निकलने का कोई रास्ता नहीं होता है और फंस जाता है। यह आसपास के ऊतकों की सूजन का कारण बनता है, जिससे निशान ऊतक का निर्माण और विकास हो सकता है।
  4.  पीसीओडी, या पॉलीसिस्टिक डिम्बग्रंथि रोग :- पीसीओडी एक ऐसी स्थिति है जिसमें ओवेरियन फॉलिकल अंडे के बजाय सिस्ट पैदा करते हैं। नतीजतन, उत्पादित अंडों की संख्या कम हो जाती है, जिससे प्रजनन संबंधी समस्याएं हो सकती हैं। इससे डिप्रेशन और मूड स्विंग हो सकता है।
  5.  मूत्र पथ संक्रमण(Urinary Infection) (यूटीआई) :बैक्टीरिया मूत्र पथ के संक्रमण का कारण बनता है। गर्भावस्था, लगातार संभोग, मधुमेह, और अन्य कारक सभी योगदान दे सकते हैं। लक्षणों में पेशाब के दौरान जलन, पेट में ऐंठन, संभोग के दौरान दर्द और बार-बार पेशाब करने की इच्छा शामिल हैं।

कोई भी स्त्रीरोग संबंधी समस्या हो तो वक्त पर इलाज करना जरुरी हैl डॉक्टर से जरूर सलाह लेl

पुणे में इनामदार मल्टीस्पेशलिटी अस्पताल(Inamdar Multispeciality Hospital) एक अत्याधुनिक अस्पताल है जो कम लागत पर सर्वोत्तम स्वास्थ्य सेवा प्रदान करता है। यहां डॉक्टरों की टीम अपनी सामाजिक प्रतिबद्धता और समर्पण के लिए जानी जाती है। अस्पताल की पूरी टीम मरीजों की देखभाल करने और उनके परिवारों का समर्थन करने के लिए प्रतिबद्ध है। रोगी की देखभाल एक परिवार की तरह की जाती है ताकि समय पर दवा उपचार से रोगी जल्द से जल्द ठीक हो सके।

पुणे के इनामदार मल्टीस्पेशलिटी अस्पताल(Inamdar Multispeciality Hospital)केंद्र में स्थित और अत्याधुनिक बुनियादी ढांचे के साथ, इनामदार मल्टीस्पेशलिटी अस्पताल सभी बीमारियों के लिए उत्कृष्ट स्वास्थ्य सेवा प्रदान करता है।

Leave a Reply

Your email address will not be published.

You may use these <abbr title="HyperText Markup Language">HTML</abbr> tags and attributes: <a href="" title=""> <abbr title=""> <acronym title=""> <b> <blockquote cite=""> <cite> <code> <del datetime=""> <em> <i> <q cite=""> <s> <strike> <strong>

*